फल्गु मेला - 100 वर्षों पर एक नज़र

1. 01 अक्तूबर, 1951

2. 23 सितंबर, 1957

3. 09 अक्तूबर, 1961

4. 05 अक्तूबर, 1964

5. 02 अक्तूबर, 1978

6. 28 सितंबर, 1981

7. 14 अक्तूबर, 1985

8. 10 अक्तूबर, 1988

9. 07 अक्तूबर, 1991

10. 17 सितंबर, 2001

11. 03 अक्तूबर, 2005

12. 29 सितंबर, 2008

13. 15 अक्तूबर, 2012

14. 12 अक्तूबर, 2015

15. 08 अक्तूबर, 2018

16. 18 सितंबर, 2028

17. 04 अक्तूबर, 2032

18. 01 अक्तूबर, 2035

19. 17 अक्तूबर, 2039

20. 27 सितंबर, 2049

bt_bb_section_bottom_section_coverage_image

फल्गु तीर्थ

कुरूक्षेत्र के सात वनों में से एक फलकीवन महान पुण्य प्रदान करने वाला है। वर्तमान में यही फलकीवन फल्गु तीर्थ के नाम से सुशोभित एवं प्रसिद्ध है। फलकीवन (फल्गु तीर्थ) से ही इस गांव का नाम भी फरल पड़ा। इस तीर्थ का वर्णन महाभारत, वामन पुराण में स्पष्ट रूप से मिलता है।
तीर्थ स्थान का पता:
फल्गु तीर्थ प्राचीन फल्गु मंदिर धर्मशाला
ग्राम व पत्रालय फरल
जिला कैथल
हरियाणा - 136021

हमसे जुडें

^ Back to Top

@ 2021 Copyright by Phalgu Tirth. All rights reserved.

फल्गु तीर्थ

कुरूक्षेत्र के सात वनों में से एक फलकीवन महान पुण्य प्रदान करने वाला है। वर्तमान में यही फलकीवन फल्गु तीर्थ के नाम से सुशोभित एवं प्रसिद्ध है। फलकीवन (फल्गु तीर्थ) से ही इस गांव का नाम भी फरल पड़ा। इस तीर्थ का वर्णन महाभारत, वामन पुराण में स्पष्ट रूप से मिलता है।
तीर्थ स्थान का पता:
फल्गु तीर्थ
ग्राम फरल
जिला कैथल
हरियाणा - 136021

हमसे जुड़े

^ Back to Top

@ 2021 Copyright by Phalgu Tirth. All rights reserved.

error: Content is protected !!